Category: Uncategorized

0

rthergb

(लार स्त्राव) (iv) अनुबंधन की दशायेंपावलव के अनुसार अनुकूलन हेतु चार दशायें या परिस्थिति होना अनिवार्य है :1. स्वभाविक उद्दीपक व अस्वभाविक उद्दीपक के मध्य एक निश्चित क्रम होना चाहिए ।अस्वभाविक उद्दीपक की प्रस्तुति...

0

rtnrbn

अधिगम क्रिया व्यक्तिगत व सामाजिक दोनों प्रकार से ही सम्भव है । बालक प्रायः प्रयत्न करके स्वयं सीखने का प्रयास करता है और बहु ल्सी क्रियाओं को दूसरों का अनुकरण करके सीखता है ।...

0

efbefb

बच्चों में उदासी (Sorrow or Sadness) के संवेग की अभिव्यक्ति (expression) स्पष्ट (overt) व अस्पष्ट दोनों ढंग से होता हैं । जब बच्चा उदासी को स्पष्टरूप से अभिव्यक्ति करता है, तो वह रोना (crying)...

0

asdasd

उपर्युक्त विवरण से यह स्पष्ट है कि जन्म से लगभग दो वर्ष की अवधि तक बालक अनेक सामाजिक अनुक्रियाएँ करने लग जाता हैं । वे निम्न प्रकार से है :1. अनुकरणबच्चा पहले मुखाकृतियों का,...

0

sccas

इस सम्पूर्ण प्रक्रिया को एक उदाहरण द्वारा समझा जा सकता है | दो वर्ष का बालक सीखने की प्रक्रिया के अन्तर्गत बौद्धिक संरचना निम्न प्रकार बनाता है । बालक को उसकी माँ दूध का...

0

scasdv

मस्तिष्क का भार जन्म के समय 350 ग्राम तक होता है, जो सम्पूर्ण शरीर के भाग का 1/8 होता है । चार वर्ष तक की आयु की मस्तिष्क का भार 80 प्रतिशत तक बढ़...

0

ujbau

मोर्स एवं विंगो (Morse and Wingo) – ” मानव व्यवहार की प्रत्येक विशेषता वंशानुक्रम और वातावरण की अन्तः क्रिया का फल हैं ।” (3) वंशानुक्रम एवं वातावरण के प्रभावों में अन्तर करना मुश्किलबालक की...

0

wfwf

“Citizenship is man’s place in the state. As the state is one of the permanent institutions of society and as man must ever live in organized relations with his fellows citizenship cannot be omitted...

0

Hello world!

Welcome to WordPress. This is your first post. Edit or delete it, then start writing!